इन बैंकों से एटीएम और डेबिट कार्ड का इस्तेमाल हो सकता है महंगा, जानें कारण

By | April 30, 2018
Sponsored Ads

इन बैंकों से एटीएम और डेबिट कार्ड का इस्तेमाल हो सकता है महंगा, जानें कारण

नई दिल्ली (30 अप्रैल): आयकर विभागदेश के दिग्गज बैंकों को नोटिस भेजकर टैक्स भुगतान करने के लिए कहा है। इन बैंकों में भारतीय स्टेट बैंक, एचडीएफसी, आइसीआइसीआइ बैंक, एक्सिस बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक शामिल हैं। विभाग ने ग्राहकों की ओर से मिनिमम अकाउंट बैलेंस रखनें पर दी जाने वाली फ्री सर्विसेज के एवज में टैक्स की मांग की है।

आयकर विभाग ने भारतीय स्टेट बैंक, एच.डी.एफ.सी., आई.सी.आई.सी.आई. बैंक, एक्सिस बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक को ग्राहकों की ओर से मिनिमम अकाउंट बैलेंस रखनें पर दी जाने वाली फ्री सर्विसेज के एवज में टैक्स की मांग की है। यह टैक्स पिछली तारीख से मांगा गया है जो हजारों करोड़ में होगा। डायरेक्टरेट जनरल ऑफ गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स इंटेलिजेंस (DGGST) ने इन बैंकों को इस मामले में कारण बताओ नोटिस जारी किया है। यह नोटिस दूसरे बैंकों को भी भेजा जा सकता है।

Sponsored Ads

जिन अकाउंट्स में मिनिमम बैलेंस मेनटेन हो रहे रहे हैं, उन पर टैक्स की मांग उसी आधार पर की गई है जिस आधार पर बैंक मिनिमम बैलेंस मेनटेन नहीं करने वाले ग्राहकों से चार्ज लेते हैं। यानी, मिनिमम अकाउंट बैलेंस मेनेटन नहीं करनेवाले ग्राहकों से बैंक जितनी रकम जुर्माने के रूप में वसूलते हैं, मिनिमम बैलेंस मेनटेन करनेवाले हर अकाउंट पर भी उतनी ही रकम जोड़कर टैक्स की गणना की जाएगी।

बैंकों से पिछले 5 साल का टैक्स मांगा गया है लेकिन बैंकों को चिंता है कि पिछली तारीख से ग्राहकों से टैक्स की मांग नहीं कर सकते। अगर इस टैक्स को बहाल रखा जाता है तो आगे चलकर इसका बोझ ग्राहकों को उठाना पड़ेगा। अकाउंट में ऐवरेज मिनिमम बैलेंस मेनटेन करने की वजह से आपको कई मुफ्त सेवाएं मिलती हैं लेकिन यदि बैंकों को टैक्स देना पड़ा तो एटीएम ट्रांजैक्शन, फ्यूल सरचार्ज रिफंड, चेक बुक, डेबिट कार्ड आदि की सेवाएं फ्री नहीं मिल पाएंगी।

Sponsored Ads

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *