Xiaomi Poco F1 'एक छोटा मशीन' जो आपको दे रहा है किसी 70 हजार रुपये वाले स्मार्टफोन के फीचर

By | August 25, 2018
शाओमी की खास बात अभी तक उसके 15 हजार रुपये से नीचे वाले फोन थे जिसने कई स्मार्टफोन कंपनियों के बेस हिला दिए और उन्हें तकरीबन स्मार्टफोन मार्केट से बाहर ही कर दिया.

नई दिल्ली: शाओमी भारतीय स्मार्टफोन मार्केट में एक ऐसा ब्रैंड बन गया है जिसपर लोग अब सबसे ज्यादा भरोसा करने लगे हैं. और ऐसा हो भी क्यों न. दरअसल शाओमी ने भारतीय स्मार्टफोन यूजर्स को टारगेट किया और एक रणनीति बनाई जो कागज पर तो दिख ही रही है साथ ही स्मार्टफोन बाजार में भी दिख रही है जहां कंपनी रोजाना नए रिकॉर्ड बना रही है. शाओमी की खास बात अभी तक उसके 15 हजार रुपये से नीचे वाले फोन थे जिसने कई स्मार्टफोन कंपनियों के बेस हिला दिए और उन्हें तकरीबन स्मार्टफोन मार्केट से बाहर ही कर दिया. लेकिन इस बार शाओमी कुछ अलग प्लानिंग के साथ मार्केट में उतरा है. और वो फोन है प्रीमियम रेंज वाले स्मार्टफोन जहां शाओमी पहली बार हाथ आजमा रहा है.

भारतीय स्मार्टफोन मार्केट में एक ‘छोटे मशीन की दस्तक’

शाओमी ने कल भारतीय मार्केट में एक ऐसा स्मार्टफोन उतारा जिसे एक ‘छोटा बीस्ट’ कहा जा सकता है. फोन का नाम है पोको एफ1. लेकिन कई लोगों का ऐसा मानना है कि शाओमी ने ये फोन अपने ब्रैंड के नाम से इसलिए नहीं निकाला क्योंकि वो कुछ अगल करना चाहती थी. जहां उसने एक नया सब- ब्रैंड बनाया जिसे पोको के नाम से जाना जा रहा है. इससे दो चीजें सामने आती है. पहला लोगों को कुछ अलग मिल रहा है तो वहीं ब्रैंड में भी थोड़ा बदलाव आया है. क्योंकि नाम से फर्क तो पड़ता है.

पोको एफ1 एक ऐसा डिवाइस है जो हाय एंड डिवाइस जैसे आईफोन और गैलेक्सी को टक्कर दे सकता है. हालांकि शाओमी ने ऐसा कदम इसलिए उठाया है ताकि वो पोको ब्रैंड के अधीन होकर कई बड़े फ्लैगशिप लॉन्च कर सके तो वहीं शाओमी अपने छोटो स्मार्टफोन्स पर वैसे ही फोकस कर सके जैसा वो अभी कर रहा है. पोको एफ1 एक फ्लैगशिप डिवाइस है जिसको लेकर कहा जा रहा है कि ये वनप्लस 6 को कड़ी टक्कर देगा. खैर, लॉन्च इवेंट में भी हमने ये कई बार देखा जब हर चीज के लिए पोको एफ1 की तुलना वनप्लस 6 से की जा रही थी और तकरीबन हर मामले में ये छोटा मशीन वनप्लस को पीछे छोड़ दे रहा था.

स्मार्टफोन कंपनियों के छूट सकते हैं पसीने

पोकोफोन के प्रोडक्ट हेड जै मनी का कहना है कि पोको एफ1 एक सस्ता और बेहतरीन डिवाइस है. अगर ये सस्ता नहीं है तो शायद इसमें हम क्वालकॉम का फ्लैगशिप स्नैपड्रैगन 845 चिपसेट का इस्तेमाल नहीं करते. वनप्लस जहां प्रीमियम सेगमेंट पर फोकस कर रहा है तो वहीं उसे कामयाबी भी मिली है लेकिन पोकोफोन इस मामले में वनप्लस से एक कदम आगे निकल गया है. क्योंकि पोको लोगों को एक स्मार्टफोन में वो सारे जरूरी फीचर्स दे रहा है जिनकी मांग आज सबसे ज्यादा है. तो इसके साथ एक यूजर को अगर कीमत, डिजाइन और स्पेक्स इतने सस्ते दाम पर मिलते है तो शायद ही कोई यूजर 25 या 30 हजार के उपर का स्मार्टफोन खरीदेगा.

Sponsored Ads

यूजर को क्या मिलता है?

बचाव का रास्ता यहां पर ये निकलता है कि एक तरफ बड़ी स्मार्टफोन कंपनियां जहां पहले ही स्मार्टफोन मार्केट में अपना पांव जमा कर बैठी हैं तो वहीं अगर वो कुछ नया भी करती हैं या किसी नए ब्रैंड के अधीन कोई नया स्मार्टफोन लॉन्च करती है तो उन्हें नुकसान की भरपाई नहीं करनी पड़ेगी लेकिन इस बीच यहां शाओमी का पोकोफोन आता है. जो आपको स्नैपड्रैगन 845 प्रोसेसर देता है तो वहीं 6 जीबी रैम और 64 जीबी का स्टोरेज भी. तो इसमें कोई दो राय नहीं कि शाओमी का कौन सा वेरिएंट बिकेगा, लेकिन जो भी बिकेगा यूजर को 6.18 इंच का फुल HD+ LCD स्क्रीन मिलेगा जिसका ऑस्पेक्ट रेशियो 18:7:9 है. तो वहीं काफी तेज रियर फिंगरप्रिंट सेंसर, 20 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा और सबसे जरूरी 4000mAh की बैटरी. इसलिए पोकोफोन ने जोखिम तो उठाया है जो कई हद तक कामयाब होने की भी उम्मीद है.

डिजाइन

पोकोफोन का डिजाइन काफी बेहतरीन है जहां ट्रिम वेस्टलाइन और ग्लास हेवी डिजाइन के साथ काफी शानदार स्पेक्स मिलते हैं. फोन की बॉडी पॉलीकॉर्बोनेट की है जिससे फोन स्लिप या हाथ से नही छूटेगा. पोकोफोन में वो सारे फीचर्स तो मिल रहे हैं लेकिन एक अहम फीचर ऐसा भी मिल रहा है जो शायद आपको 50 हजार या उससे ऊपर की कीमत पर मिलेगा. जी हां हम बात कर रहे हैं इसके फेस अनलॉक फीचर की जो कितने भी अंधेरे में आपका चेहरा झट से स्कैन कर फोन को अनलॉक कर देगा. तो वहीं अगर आपका फोन इस्तेमाल के कारण ज्यादा हीट हो जाता है तो उसके लिए कंपनी ने इसमें लिक्विड कूलिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया गया है जो स्नैपड्रैगन प्रोसेसर से सारी गर्मी को बाहर निकाल देगा और आपका फोन ठंडा रखेगा. लेकिन एक बात तो तय है पोको का ये स्मार्टफोन किसी 70 हजार रुपये वाले स्मार्टफोन जितने स्पेक्स दे रहा है.

पोको और शाओमी के बीच कैसे ये साझेदारी हुई जिससे इस फोन को बनाया गया ये तो कंपनी और वहां काम कर रहे लोगों को पता होगा लेकिन फोन को इस्तेमाल करने के बाद ऐसा लगा मानों उन लोगों की सारी मेहनत रंग लाई.

क्यों खरीदें पोको एफ1?

क्योंकि ये फोन आपको वो सारे फीचर्स दे रहा है बल्कि उससे ज्यादा जो आपको एक महंगी कीमत वाले स्मार्टफोन में मिलता है. ये फोन वनप्लस, ऑनर और आसुस जैसे स्मार्टफोन को टक्कर दे रहा है. तो वहीं अब कंपनी यूरोपियन मार्केट में भी इस स्मार्टफोन को उतारने का प्लान बना रही है. तो अगर कोई फीचर फोन चाहते हैं जिसमें तेज सेंसर, एक बेहतरीन प्रोसेसर, कैमरा, डिजाइन मौजूद हो और जिसकी कीमत 20,000 रुपये के नीचे है तो पोकोफोन को 29 अगस्त को फ्लिपकार्ट और मी.कॉम से खरीद सकते हैं.

Sponsored Ads

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *